छत्तीसगढ़ब्रेकिंग न्यूज़राज्यसरगुजा

कुंवरपुर गोठन में समूह की महिलाओं ने सुनी लोकवाणी, मुख्यमंत्री ने की विकास का नया दौर की बात

प्रभा सिंह यादव/ब्यूरो चीफ/सरगुजा//  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मासिक रेडियोवार्ता लोकवाणी की 19 वीं कड़ी का प्रसारण 11 जुलाई रविवार को छत्तीसगढ़ स्थित आकाशवाणी के सभी केन्द्रों, एफ.एम. रेडियो और क्षेत्रीय समाचार चैनलों से सुबह 10.30 से 11 बजे तक हुआ। लोकवाणी की इस कड़ी को लखनपुर जनपद के कुंवरपुर गोठान में स्व सहायता समूह की महिलाओं ने भी सुनी । मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने लोकवाणी के माध्यम से पिछले दो वर्षों में प्रदेश में हुए विकास कार्यो, ग्रामीण विकास में किये जा रहे नवाचार, स्वास्थ्य एवं शिक्षा के संबंध में विस्तार से चर्चा की। लोकवाणी सुनकर महिलाओ ने कहा कि मुख्यमंत्री ने महिलाओं को रोजगार से जोड़कर आर्थिक रूप से मजबूत करने ग्रामीण आजीविका को बढ़ावा देने की बात कही है। गोठानो में भी नवाचार किया जा रहा है जिससे महिलाओ को पूरे वर्ष भर रोजगार मिलता रहेगा। इस दौरान छत्तीसगढ़ संवाद द्वारा प्रकाशित मासिक पत्रिका जनमन का भी वितरण किया गया।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि नरवा-गरवा-घुरवा-बारी को छत्तीसगढ़ के सर्वांगीण विकास से, ग्रामीण अर्थव्यवस्था और अस्मिता से जोड़ना हो तो निश्चित तौर पर यह हमारी प्राथमिकता है। हम छत्तीसगढ़ के बुनियादी विकास की बात करते हैं और उसी दिशा में सारे प्रयास किए गए हैं जिसके कारण आर्थिक मंदी और कोरोना जैसे महासंकट के दौर में भी छत्तीसगढ़ की अर्थव्यवस्था अपनी पटरी पर बनी रही।उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लीनिक योजना 11 लाख मरीजों तक पहुंचती है तो मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजना और दाई-दीदी मोबाइल क्लीनिक जैसी पहल का लाभ 5 लाख लोगों को मिलता है।

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि हमारा लक्ष्य प्रदेश के ग्रामीण अंचल, वन अंचल, बसाहटों, कस्बों और शहरों में रहने वाले लोगों का जीवन आसान बनाना है। आगामी दो वर्षों में 16 हजार करोड़ की लागत से हजारों सड़कें और पुल-पुलिया बना रहे हैं। हमारा लक्ष्य है कि सड़कों का नेटवर्क पूरा हो। उन्होंने कहा कि वर्ष 2018 के अंत में प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में सिर्फ एक हजार 378 डॉक्टर काम कर रहे थे जिसे बढ़ाकर 3 हजार 358 कर दिया है। इसी प्रकार मेडिकल स्टाफ की संख्या भी 18 हजार से बढ़ाकर लगभग 22 हजार कर दी गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के औद्योगिक विकास का लाभ प्रदेश की जनता को दिलाने के लिए नई औद्योगिक नीति बनाई गई है, जिसके कारण प्रदेश में 47 हजार करोड़ रू. का पूंजी निवेश होगा और 67 हजार से अधिक लोगों को प्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलेगा। हमने हर विकासखंड में फूडपार्क स्थापित करने की दिशा में कार्यवाही शुरू की है।

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि 17 दिसम्बर 2018 के पहले 18 हजार करोड़ रूपए से अधिक लागत की 543 सिंचाई परियोजनाएं अधूरी छोड़ दी गई थीं। हमने मात्र दो साल में इनमें से 138 परियोजनाएं पूर्ण कर दी हैं तथा 405 का काम प्रगति पर है। इतना ही नहीं 17 दिसम्बर 2018 के बाद हमने 429 नई परियोजनाएं स्वीकृत की हैं। जिनकी लागत 1 हजार 657 करोड़ रूपए है। जहां तक पेयजल का सवाल है तो हमने ‘जल-जीवन मिशन’ के माध्यम से एक बड़ा अभियान छेड़ दिया है जिसके तहत वर्ष 2023 तक प्रदेश के सभी 39 लाख ग्रामीण घरों में नल से शुद्ध जल पहुंचाया जाएगा। हमारा मानना है कि जब हर घर में नल के माध्यम से शुद्ध पानी पहुंचने लगेगा तो उससे सबसे अधिक राहत हमारी माताओं, बहनों को मिलेगी।

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि सबसे पहले अपना वादा निभाते हुए 26 हजार शिक्षाकर्मियों का संविलियन किया और अभी तक प्रदेश में 2 हजार 800 व्याख्याताओं की भर्ती का काम पूरा हो चुका है। प्रदेश में स्कूल से ही शिक्षा का स्तर बढ़ाने के लिए स्वामी आत्मानंद इंग्लिश मीडियम स्कूल योजना शुरू की गई है जिसके तहत 171 शालाओं में बच्चों को प्रवेश दिया जा रहा है। कोरोना से जिन बच्चों के पालकों का निधन हुआ है, उन बच्चों को निःशुल्क शिक्षा देने के लिए हमने ‘महतारी दुलार योजना’ शुरू की है। कुंवरपुर गोठान में महिला स्व सहायता समूह के  गीता,  उर्मिला,  मति बाई तथा गोठान समिति के धनराज पैकरा, रविन्द्र, कृष्ण कुमार, त्रिलोचन, रामचरण सारथी, नवल साय तथा संतराम नागवंशी उपस्थित थे। लोकवाणी को जिला मुख्यालय, जनपद मुख्यालय सहित ग्राम पंचायतों में भी उत्साह के साथ सुना गया ।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
Close
Close